नज़रे करम मुझ पर इतना न कर,की तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं,मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की,मैं इश्क़ के जहर का आदि हो जाऊं।