ए खुदा तेरा रूठना भी जरुरी था |  
इंसान का ये घमंड टूटना भी जरुरी था || 
हर शक़्स खुदको खुदा समज बैठा था |  
ये भरम दूर करना भी जरुरी था ||
shayari hindi
life shayari