जो दूरियों में भी कायम रहा।
वो इश्क़ ही कुछ और था।।